Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 16, 2019 · 1 min read

बादल

बाल कविता (बादल)

बादल दादा आओ आओ
पानी तुम बरसा कर जाओ

रूप तुम्हारा सबसे न्यारा
हम सबको लगता है प्यारा

रंग बदल कर तुम डरपाओ
बादल दादा आओ आओ

सूरज के संग आंख मिचौली
और करते हो हंसी ठिठोली

गर्मी को ठंडा कर जाओ
बादल दादा आओ आओ

रुई के जैसे तुम लगते हो
हर दम ही चलते रहते हो

कभी तो रुक करके दिखलाओ
बादल दादा आओ आओ

तुम जो गर धरती पर होते
संग संग हम भी हंसते रोते

जोर जोर से ढोल बजाओ
बादल दादा आओ आओ

नरेन्द्र मगन, कासगंज
9411999468

200 Views
You may also like:
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
दोस्ती का एहसास होता है
Dr fauzia Naseem shad
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कौन समझाए।
Taj Mohammad
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
" परिवर्तनक बसात "
DrLakshman Jha Parimal
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
मेरे जज्बात
Anamika Singh
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोजन
लक्ष्मी सिंह
हासिल ना हुआ।
Taj Mohammad
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
'अशांत' शेखर
✍️जुस्तजू आसमाँ की..✍️
'अशांत' शेखर
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
✍️इश्तिराक✍️
'अशांत' शेखर
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
Loading...