Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

बागबाँ हो जाता है

पढ बच्चन की मधुशाला मन बागबां हो जाता है
पढ बच्चन की मधुशाला ख्याब नया मैं बन जाता है
पी बच्चन की मधुशाला भाव विभोर मैं हो जाता हूँ
पी प्याला युग जुग प्यास और सबमें जग जाती है

आज एक नूतन मधु शाला मैं भी तेरे लिए गढता हूँ
पिला पिला कर रस प्याला सराबोर मैं करता हूँ
ऐसी पिपासा से उन्मुक्त सदा के मै तुझे करता हूँ
भूल जाऐगा तू जाना अब जाना हमेशा शराब शाला।

Language: Hindi
72 Likes · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
कफन
कफन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ह्रदय की व्यथा
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक सन्देश (वसंत पंचमी विशेष लेख)
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक सन्देश (वसंत पंचमी विशेष लेख)
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
विक्रम कुमार
आंसूओं की नमी का
आंसूओं की नमी का
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल की कोई जरा,
अपने दिल की कोई जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
निराला जी की मजदूरन
निराला जी की मजदूरन
rkchaudhary2012
रंगों की बारिश (बाल कविता)
रंगों की बारिश (बाल कविता)
Ravi Prakash
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
💐प्रेम कौतुक-516💐
💐प्रेम कौतुक-516💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"भीमसार"
Dushyant Kumar
23/21.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/21.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खिचड़ी
खिचड़ी
Satish Srijan
" मासूमियत भरा भय "
Dr Meenu Poonia
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विपक्ष की सुझबुझ
विपक्ष की सुझबुझ
Shekhar Chandra Mitra
✍️सोच तिलिस्मी तालों में बंद है...
✍️सोच तिलिस्मी तालों में बंद है...
'अशांत' शेखर
तुम स्वर बन आये हो
तुम स्वर बन आये हो
Saraswati Bajpai
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त
वक्त
Astuti Kumari
Loading...