Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 22, 2016 · 1 min read

बागबाँ हो जाता है

पढ बच्चन की मधुशाला मन बागबां हो जाता है
पढ बच्चन की मधुशाला ख्याब नया मैं बन जाता है
पी बच्चन की मधुशाला भाव विभोर मैं हो जाता हूँ
पी प्याला युग जुग प्यास और सबमें जग जाती है

आज एक नूतन मधु शाला मैं भी तेरे लिए गढता हूँ
पिला पिला कर रस प्याला सराबोर मैं करता हूँ
ऐसी पिपासा से उन्मुक्त सदा के मै तुझे करता हूँ
भूल जाऐगा तू जाना अब जाना हमेशा शराब शाला।

72 Likes · 196 Views
You may also like:
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अरदास
Buddha Prakash
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...