Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2022 · 1 min read

बहुत हुशियार हो गए है लोग

बहुत हुशियार हो गए हैं लोग।
हमसे बेजा़र हो गए हैं लोग।
💗
झूठ कहते हैं देखकर सच को।
बहुत लाचार हो गए हैं लोग।
💗
जो बनाते हैं सांप रस्सी का।
ऐसे अखबार हो गए हैं लोग।
💗
अब गु़लामी में नफ़्स के देखो।
फ़रमाबरदार हो गए हैं लोग।
💗
क़त्ल कर देते हैं मजलूमों का।
कितने बेकार हो गए हैं लोग।
💗
“सगी़र” इंसाफ की तमन्ना में।
अब तो संगसार हो गए हैं लोग।

53 Views
You may also like:
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
फ़ौजी
Lohit Tamta
वही मित्र है
Kavita Chouhan
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
हर घर तिरंगा
अश्विनी कुमार
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*** वीरता
Prabhavari Jha
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
'अशांत' शेखर
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
ऋतुराज का हुआ शुभारंभ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कशमकश का दौर
Saraswati Bajpai
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मंदिर
जगदीश लववंशी
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई मसिहाँ चाहिए..✍️
'अशांत' शेखर
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
“ARBITRARY ACTING ON THE WORLD THEATRE “
DrLakshman Jha Parimal
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
Loading...