Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 25, 2022 · 2 min read

“आज बहुत दिनों बाद”

आज बहुत दिनों बाद एक नज़्म लिखी है,
नज़्म में सिर्फ़ तेरी ही बात लिखी है, वो हमारी पहली मुलाक़ात की दास्तां लिखी है,
ट्रैन का मेरा सफ़र और फिऱ तेरे शहर में गुज़री मेरी रात की कहानी लिखी है,
मेरी ट्रेनिंग के टाइम में वो छुट्टियों के बहाने बना कर तुझसे मुलाकात की वो हसीन शब-ए-वस्ल लिखी है,
कैसे तू मेरी नब्ज़ देख कर मेरा हाल बता देती थी, बुख़ार में मेरा सर दबा देती थी,
जब-जब तू मुझे सीने से लगाती थी मानों ज़िन्दगी वहीं थम सी जाती थी,
तेरे होंठ मेरे होंठो से टकराते थे, तब-तब मेरी साँसों को महका देते थे,
वो छत में हमारा बैठ कर ढेर सारी बातें करना, तेरा वो हँसते हुए वो मेरे बच्पन की नादानियों के किस्से सुन्ना,
तेरी वो हाँसी के अफसाने लिखे है,
आज बहुत दिनों बाद एक नज़्म लिखी है, नज़्म में सिर्फ़ बस तेरी ही बात लिखी है,
तेरी नाक का वो तिल जो मुझे बहुत प्यारा लगता था, दुनियां में तेरे सिवा मुझे कोई ख़ुबसूरत नहीं लगता था,
मेरी पहली पोस्टिंग में तेरा वो मुझे दवाइयों से भरा हुआ बॉक्स देना, हर दावा को कैसे और कब खाना है वो सब डिटेल्स में लिख देना,
तेरी आँखे उस समंदर से भी ज्यादा गहरी थी जिनमें कभी मैं डूब जाया करता था,
मेरा वो डयूटी के लिए तुझसे दूर जाना और तेरा वो दरवाज़े में खड़े रह के बस मुझे घूरना लिखा है, हिज्र की रातों में बहे तेरे आँसूओं की सिहाई से ये नज़्म लिखी है, नज़्म में बस तेरी ही बात लिखी है,
काश तू होती तो आज मैं यूँ बंजारा ना फ़िरता, कोई बेहाया मुझसे मेरी औकात ना पूछती,
तेरे लिए मेरा इश्क़ हमेशा खास था, कड़ी धूप में छाव था, काश मैं कभी तेरे मन को समझा होता, खुदगर्ज़ी में तेरे से दूर ना होता,
अपनी पलकों में मेरे ख़्वाब भी सजा लेती थी, मेरे बदले के आँसू भी बहा लेती थी, मेरी पल्लो मुझे अपनी पलकों में छुपा लेती थी,
तेरी पलकों पे सजे मेरे ख़्वाबों की दुनियां लिखी है, आज बहुत दिनों बाद एक नज़्म लिखी है और नज़्म में सिर्फ़ तेरी ही बात लिखी है।
“लोहित टम्टा”

120 Views
You may also like:
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
इश्क की खुशबू में ।
Taj Mohammad
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
बेचैनियाँ फिर कभी
Dr fauzia Naseem shad
✍️प्रकृति के नियम✍️
'अशांत' शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
मुहब्बत क्या है
shabina. Naaz
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
जुनून।
Taj Mohammad
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
करके शठ शठता चले
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
कर्म करो
Anamika Singh
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कसूर किसका
Swami Ganganiya
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
Loading...