Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2022 · 1 min read

बहुत घूमा हूं।

बहुत घूमा हूं जहां में दर दर शहर शहर।
मुझमें हर किसी का पता मिल जायेगा।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 85 Views
You may also like:
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
✍️बोन्साई✍️
'अशांत' शेखर
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या करे
shabina. Naaz
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समय
AMRESH KUMAR VERMA
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️तकदीर-ए-मुर्शद✍️
'अशांत' शेखर
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
पापा
Anamika Singh
गीत -
Mahendra Narayan
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
बस एक ही भूख
DESH RAJ
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...