Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2022 · 1 min read

बहुत अच्छे लगते ( गीतिका )

वृक्ष पर्वत नद नदी निर्झर बहुत अच्छे लगे
कोकिला कंठी भरे जब स्वर बहुत अच्छे लगे ।

शिव बसे काशी सदा से बोल बम जयकार है
मोहते मन भक्त का नटवर बहुत अच्छे लगे ।

ताप देते रात दिन जब घेर बादल ने लिया
तब उगे ठंडे गगन भास्कर बहुत अच्छे लगे ।

कुछ नहीं कहतीं अधर से बस चलाती हैं छुरी
प्रीति से भींगे नयन खंजर बहुत अच्छे लगे ।

कंकरीटों के महल की कैद से बाहर निकल
फूस वाले गाँव के छप्पर बहुत अच्छे लगे ।

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
वाराणसी ©®

Language: Hindi
145 Views

Books from Dr. Sunita Singh

You may also like:
दिलों को तोड़ जाए वह कभी आवाज मत होना। जिसे कोई ना समझे तुम कभी वो राज मत होना। तुम्हारे दिल में जो आए ज़ुबां से उसको कह देना। कभी तुम मन ही मन मुझसे सनम नाराज मत होना।
दिलों को तोड़ जाए वह कभी आवाज मत होना। जिसे...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
सूर्यकांत द्विवेदी
💐प्रेम कौतुक-285💐
💐प्रेम कौतुक-285💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चुहिया रानी
चुहिया रानी
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बरसात और बाढ़
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सफर
सफर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
Acharya Rama Nand Mandal
✍️ इंसान सिखता जरूर है...!
✍️ इंसान सिखता जरूर है...!
'अशांत' शेखर
मुश्किल है बहुत
मुश्किल है बहुत
Dr fauzia Naseem shad
■ लघुकथा / विभीषण
■ लघुकथा / विभीषण
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
सेतु
सेतु
Saraswati Bajpai
" मेरी प्यारी नींद"
Dr Meenu Poonia
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की लक़ीरें तक बाँट चली।
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की...
Manisha Manjari
दुनिया के मेले
दुनिया के मेले
Shekhar Chandra Mitra
अकेला चांद
अकेला चांद
Surinder blackpen
[ पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य ] अध्याय- 1.
[ पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य ] अध्याय- 1.
Pravesh Shinde
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
पितृपक्ष_विशेष
पितृपक्ष_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*खिला हुआ हर एक पुष्प ज्यों मुरझा जाना तय है (हिंदी गजल गीतिका)*
*खिला हुआ हर एक पुष्प ज्यों मुरझा जाना तय है...
Ravi Prakash
जैसी करनी वैसी भरनी
जैसी करनी वैसी भरनी
Ashish Kumar
अद्भभुत है स्व की यात्रा
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
किसको दोष दें ?
किसको दोष दें ?
Shyam Sundar Subramanian
लोग समझते क्यों नही ?
लोग समझते क्यों नही ?
पीयूष धामी
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
पंचशील गीत
पंचशील गीत
Buddha Prakash
खुद पर यकीं
खुद पर यकीं
Satish Srijan
अंतर दीप जले ?
अंतर दीप जले ?
मनोज कर्ण
Loading...