Jan 16, 2022 · 2 min read

*बहुजन मिशन के चरित्र*

*बहुजन मिशन के चरित्र*
=================
बहुत मिशनरी हमने देखे
ऐसे देखें
वैसे देखें
ये ना पूछो…… कैसे देखें।
*मुंह में है जय भीम का नारा*……..

मन के अन्दर कीचड़ गारा
दुश्मन से कब खौफ रहा है
मारा तो अपनों ने मारा
*मुंह में है जय भीम का नारा* ……..

बातें बड़ी एकता वाली
पीठ के पीछे देते गाली
वो पक्के अम्बेडकर वादी
चंदा के जो हो गये आदी
मिशन कर दिया गोबर गारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……..

घर के बाहर बौद्ध बताते
अंदर घर में जोत जलाते
बुद्ध की वो कब माने बातें
बुद्ध वालों को खूब सताते
नफ़रत का चढ़ बोले पारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*………

दारू पी चढ़ जाते मंच पर
खूब तमाशा करें मंच पर
पत्नी अवैध साथ में रखते
पूछे कोई तो बहन बताते
धम्म को ये दे रहे सहारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……..

मंचों पर भी तिकड़म बाजी
चमचा से बस चमचा राजी
पीछे रह गये कहने वाले
चापलूस ने जीती बाजी
इस तरहा दे रहे सहारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*…….

नारी जी भर रंग दिखाती
बढ़ते पुरूष को खूब रिझाती
जब तक ना हो मतलब पूरा
जी भर इठलाती,इतराती
संस्कारों के वंस को मारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……..

राष्ट्र कवि कुछ चोर हो गये
मंच मिला मुंह जोर हो गये
बे मतलब का शोर हो गये
लेकिन वो गठजोड़ हो गये
मंचों की गरिमा को मारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*…….

अच्छे कुछ बदलाव नहीं है
करते अच्छे काम नहीं है
अपनों की ही खींचें टांगें
आदत से आराम नहीं है
गाते फिरें वो भाईचारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……..

रोज़ नये संगठन बन जाते
झंडा अपना अलग बनाते
कभी एक जो हो नहीं पाते
रोज़ वहीं हमको समझाते
धींगामुश्ती बने सहारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……..

बहुजन राजनीति भी देखो
बनती खूब पार्टीयां देखो
वोट बैंक भी टूटा देखो
हर नेता को झूंठा देखो
संविधान इन सबसे हारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……

इसको तुम अवरोध ना जानो
इसको मेरा शोध तुम मानो
बहुत दिनों से देख रहा हूं
कैसे बोलूं सोच रहा हूं
भीम राव को तुमने मारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……

“सागर” तुम आवाज उठाओ
झूंठो को आईना दिखलाओ
माना ये नहीं सुधरने वाले
फिर भी तुम ये गीत सुनाओ
पकड़े रहो सच का इकतारा
*मुंह में है जय भीम का नारा*……….
अपनों से करते हैं किनारा।
*मुंह में है जय भीम का नारा।।*
=======16/01/2022
*जनकवि/बेखौफ शायर*
डॉ.नरेश “सागर”
*इंटरनेशनल साहित्य अवार्ड से सम्मानित*
9149087291
*नमो बुद्धाय…… जय भीम……जय संविधान*
??✍️????✍️????✍️??

2 Likes · 2 Comments · 296 Views
You may also like:
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
**किताब**
Dr. Alpa H.
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप कौन है
Sandeep Albela
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
पिता
Saraswati Bajpai
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
आतुरता
अंजनीत निज्जर
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
Loading...