Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 1, 2022 · 1 min read

बहुजन की भारत माता

मैं जब भी
भारत माता के
स्वरूप की
कल्पना करता हूं तो
घास काटती हुई,
बर्तन मांजती हुई,
झाड़ू लगाती हुई,
ईंट ढोती हुई,
बकरी चराती हुई,
धान बोती हुई या
कपड़ा धोती हुई
कोई औरत
मेरे सामने
आ जाती है!
Shekhar Chandra Mitra
#motherindia #भारतमां #तिरंगा
#tiranga #बहुजन_की_भारत_माता

20 Views
You may also like:
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुन्दर घर
Buddha Prakash
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
चाहत की बाते
Dr. Sunita Singh
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तकदीर की लकीरें।
Taj Mohammad
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
** दर्द की दास्तान **
Dr.Alpa Amin
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
सुरज से सीखों
Anamika Singh
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ
Dr Archana Gupta
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
" आशा की एक किरण "
DrLakshman Jha Parimal
भूख
Varun Singh Gautam
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
कातिल बन गए है।
Taj Mohammad
शम्मा ए इश्क़।
Taj Mohammad
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
*राखी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोहब्बत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
Loading...