Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#29 Trending Author

बहार का इंतजार

मेरे दर्द से मुतासिर नहीं हो खुदा तुम ,
वरना भेज ना देते बहारों को तुम ।

नजरें दीदार ए बहार को तरस गई ,
और कितना इंतजार करवाओगे तुम।

अब तक तो खार ही आएं है हिस्से में ,
फूलों से हमारा रिश्ता कब जोड़ोगे तुम ।

ख्वाबों से दिल को तसल्ली नहीं होती ,
हमारे जज्बातों को कुछ तो समझो तुम ।

बहारें आएं तो हम भी खुशी से झूम लें ।
बस थोड़ी सी तो बहार भेज दो तुम ।

क्या सारी उम्र गुजर जायेगी इंतजार में ,
आखिर कब तक यूं ही तरसाओगे तुम ?

हर इंसा की तकदीर में आती तो है बहार ,
मेरी ऐसी तकदीर कब लिखोगे तुम ?

ए खुदा ! तुम मेरे दर्द से मुतासीर कब होेगे ?
हम सदायें दे रहें मगर कैसे खामोश हो तुम ।

यह खामोशी तुम्हारी ले लेगी हमारी जान देखो !
फिर ना कहना “थोड़ा और इंतजार कर लेते तुम ”

” अनु ” को मगर फिर भी एतबार है तुम पर ,
देखते है कब तक यूं संगदिल बने रहते हो तुम ।

4 Likes · 6 Comments · 389 Views
You may also like:
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
खानाबदोश ज़िंदगी
साहित्य गौरव
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
पुरानी यादें
Palak Shreya
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी देखा तुझे है आते अरु जाते हुए।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
ज़िंदगी पर भारी
Dr fauzia Naseem shad
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️किरदार ✍️
'अशांत' शेखर
✍️आखरी कोशिश✍️
'अशांत' शेखर
✍️नियत में जा’ल रहा✍️
'अशांत' शेखर
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
✍️अज़ीब इत्तेफ़ाक है✍️
'अशांत' शेखर
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न्याय सम्राट अशोक का
AJAY AMITABH SUMAN
✍️ताला और चाबी✍️
'अशांत' शेखर
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
✍️कमाल ये है...✍️
'अशांत' शेखर
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
Loading...