Jan 17, 2022 · 1 min read

बस थोड़ा सा प्यार दे दो।

इस रंग बदलती दुनिया में,
अब इतनाअधिकार दे दो।
मुझे थोड़ी सी खुशी और,
बस थोड़ा सा प्यार दे दो।

इतनी सी चाहत है मेरी,
यूँ एक तमन्ना रखता हूँ।
खुशियाँ दे गम को ले लूँ
एक ऐसा व्यापार दे दो।

सब जन रवि से खिलें हो,
हो आश्वश्त समझ लूँ मैं।
काली रात घनेरी जब हो,
तब चंदा सा दीदार दे दो।

जनम-2का नाता पाके,
विश्वास रूह-रूह भरूँ।
हिया-हिया से जुड़े रहें,
एक ऐसा आधार दे दो।

रंग स्थिर हो मानव का,
मैं जाति धर्म के परे रहूँ।
द्वेष क्लेश जाने न कोई,
एक ऐसा संसार दे दो।

———————————–
अशोक शर्मा,कुशीनगर,उ.प्र.

1 Like · 126 Views
You may also like:
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H.
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
मिसाइल मैन
Anamika Singh
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
औरतें
Kanchan Khanna
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
हे ईश्वर!
Anamika Singh
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रकृति का क्रोध
Anamika Singh
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...