Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2022 · 1 min read

बस तुम को चाहते हैं।

बस तुम को चाहते हैं।
सच दिलसे कह रहे हैं।।1।।

कर लो अकीदा मेरा।
तुमसे इश्क कर रहे हैं।।2।।

कुछ कहना चाहते हैं।
तुम्हारे लब लग रहे हैं।।3।।

हम तुम में है मुहब्बत।
कहने को लरज रहे हैं।।4।।

अब मान जाओ तुम।
दिलेअरमां जल रहे हैं।।5।।

सफ़रे इश्क में दिल।
यूं कब से धड़क रहे हैं।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 63 Views
You may also like:
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई मरता नही है
Anamika Singh
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
जिंदगी का राज
Anamika Singh
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी...
Ravi Prakash
गजल क्या लिखूँ कोई तराना नहीं है
VINOD KUMAR CHAUHAN
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
आग-ए-इश्क का दरिया।
Taj Mohammad
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
अधुरा सपना
Anamika Singh
मोहब्बत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
वो पत्थर
shabina. Naaz
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ईद मनाते हैं।
Taj Mohammad
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
समय और मेहनत
Anamika Singh
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
बिख़रे वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
एक नारी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
Loading...