Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 26, 2017 · 2 min read

बस एक ही भूख

जिंदगी की राह में चलते-चलते आज मायूस हो गए,
माया की दुनिया में लक्ष्य से हटने पर मजबूर हो गए I

कभी अरमान था कि एक महकता गुलिस्ताँ बनाऊंगा,
“इंसानियत” के फूलों से इस बगिया को खूब सजाऊंगा ,
“ईमान” की क्यारी इसमें लगाकर फूलों को महकाऊंगा,
“प्रेम-प्यार” की कलियों से इस गुलशन को खिलाऊंगा I

जिंदगी की राह में चलते-चलते आज मायूस हो गए,
माया की दुनिया में लक्ष्य से हटने पर मजबूर हो गए I

भूख के रंग
*********

चौतरफा हमें दिखाई देती है, बस एक भूख ही भूख ,
सब कुछ लुटाकर सब कुछ हासिल करने की भूख,
अपने जिस्म को बेचकर दौलत पाने की एक भूख ,
टुकड़े–2 रोटी के लिए तड़पते हुए बच्चे की एक भूख,

जिंदगी की राह में चलते-चलते आज मायूस हो गए,
आगे-2 बढनें की चाहत में अपना लक्ष्य भी भूल गए,

एक हक़ीकत :

इस प्यारे जगमग जग में हम कहाँ दौड़ते चले जा रहे ?
सब कुछ भूलकर नफ़रत को अपने गले लगाते जा रहे,
“घर” को छोड़कर अलगाव के समंदर में समाते जा रहे,
लौटना है मुश्किल, ऐसे भँवर के जाल में फंसते जा रहे ,

जिंदगी की राह में चलते-चलते आज हम मायूस हो गए,
माया की नगरी में प्रेम का दीपक भी जलाना भूल गए,

काश ! “राज” मायानगरी को पहले ही अगर जान जाता ,
“प्रेम की डगर” पर चलने का अडिग बीड़ा कभी न उठाता,
मुट्ठी बांधकर आया था, गठरी में सिमट कर चला जाता,
“भारत हमारा है” “हम भारतीय है” का अलख न जलाता I

जिंदगी की राह में चलते-चलते आज हम बेबस – मायूस हो गए,
“गुलशन” में लगी नफ़रत की आग देखने को मजबूर हो गए,

**************
देशराज “राज”
कानपुर

443 Views
You may also like:
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
अख़बार
आकाश महेशपुरी
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
You are my life.
Taj Mohammad
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H. Amin
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपना भारत देश महान है।
Taj Mohammad
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
“ ईमानदार चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
Loading...