Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author

✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️

✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️
————————————//
यहाँ तक
चलते चलते
कई पाँव
थक जाते है…!
बड़ा लंबा है
जिंदगी का
एक छोटा पड़ाव,
हम ढूँढ रहे बसर,
जिंदगी कहाँ
ठहरी होगी…?

क्या है जिंदगी..?
एक ख्वाईश
जिंदा रखने के होड़ में
कही बार
बेवजह…
मरना पड़ता है।

क्या है जिंदगी..?
अस्तित्व की
चली आ रही
इस दौड़ में,
अपने बुलंदी
के लिये
हर बार
जीतकर भी
बेमतलब…
हारना पड़ता है।।

दोस्त जिंदगी
ऐसी हो…!
उसके एक
पैर में चुभें
काँटे का दर्द..!
मेरे दूसरे पैर से
लहु बन…
छलक आये।

चल ए दोस्त..
इस पार
फ़लक में
गूँज रही
“कहकहा” को
उस छोर ज़मी
के ख़ामोश
बच्चो के ओठों पे
हलका सा
बिखेरा जाये।

बस इतनी सी
ख्वाईश…!
———————————//
✍️”अशांत”शेखर✍️
09/06/2022

2 Likes · 3 Comments · 93 Views
You may also like:
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
✍️कधी कधी✍️
'अशांत' शेखर
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
'अशांत' शेखर
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
राजनेता
Aditya Prakash
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
साथ
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
✍️क्रांतिसूर्य✍️
'अशांत' शेखर
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
मेरे अल्फाज़...
"धानी" श्रद्धा
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
मेरी इस बर्बादी में।
Taj Mohammad
मोह....
Rakesh Bahanwal
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...