Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

बसे हो दिल में

कितना कुछ कहना रहता है
लब तक आ ठहरा रहता है

कह कर तुमको खो न दें हम
हरदम ये खटका रहता है

तुम मिल जाओ ये हो वो हो
ख़्वाब कोई पलता रहता है

कभी तो समझोगे तुम हालत
सोच के दिल बहला रहता है

दिन कट जाता जैसे तैसे
रात ज़ख़म गहरा रहता है

आन बसे हो दिल में जबसे
दिल हरदम खोया रहता है

चाँद से कैसे तुलना कर दूँ
उस पर तो धब्बा रहता है

बैठ गए जो पहलू तेरे
चाँद सदा जलता रहता है

आ जाते हो ख़्वाबों में जो
मेरा दिन महका रहता है

भीड़ भरी हो दुनिया में पर
तुम बिन सब सूना रहता है

नींद कहाँ से आये तेरी
यादों का पहरा रहता है

इक इक पल ज्यों सदियों Bजैसा
तुम बिन जो गुज़रा रहता है

तुमसे अलग जो लिखना चाहूँ
हर पन्ना सादा रहता है

सुशान्त वर्मा

146 Views
You may also like:
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
बेरूखी
Anamika Singh
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
मेरे साथी!
Anamika Singh
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम सब एक है।
Anamika Singh
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
Loading...