Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 1 min read

बरस रही हो बरखा रानी पर अंदाज़ अलग है।

बरस रही हो बरखा रानी पर आग़ाज़ अलग है।
बीते कुछ बरसों से तेरा रंग अंदाज़ अलग है।

कहीं कहीं पर बूंदे झरतीं कहीं कहीं पर पत्थर,
कहीं खुशी की कोंपल उगती दुख हैं कहीं बहत्तर,
भयकारी विष लहरें आतीं लीलने को सब आतुर,
सहलाती दुलराती लहरें मातु कहीं पर बनकर,
रंग नहीं तेरा कोई पर सज्जा राज अलग है,
बीते कुछ बरसों ————————————।

सागर रेगिस्तान बन गए रेत उड़े खेतों में,
बूँद बूँद पानी को तरसे फसल जले खेतों में,
रेत विपुल जलधारा पाकर पगलाए उफ़नाये,
प्यास विकल हो तांडव करती मैदानी स्रोतों में,
कर्कश , कड़क ,प्रकम्पित करती सुर आवाज़ अलग है,
बीते कुछ बरसों ————————————-।

उन्नतशील परम ज्ञानी होने का दम भरते हैं,
पेड़ काटते , राह रोकते पाप कर्म करते हैं,
तेरी भी क्या गलती है जो पाती लौटाती है,
हम भी अपने दुष्कर्मो का उचित दंड भरते हैं,
मनुज हुआ है भोगी जीने का ढंग अंदाज़ अलग है,
बीते कुछ बरसों ————————————।

10 Likes · 1 Comment · 325 Views
You may also like:
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
✍️KITCHEN✍️
'अशांत' शेखर
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
सवालों के घेरे में देश का भविष्य
Dr fauzia Naseem shad
नादानियाँ
Anamika Singh
" राज "
Dr Meenu Poonia
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
जब उमीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
Manisha Manjari
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पैरहन में बहुत छेद थे।
Taj Mohammad
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
✍️सब्र कर✍️
Vaishnavi Gupta
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
एकाकीपन
Rekha Drolia
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
तेरा नाम।
Taj Mohammad
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
लगा हूँ...
Sandeep Albela
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️कोई मसिहाँ चाहिए..✍️
'अशांत' शेखर
मिटटी की मटकी
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
सबको मतलब है
Dr fauzia Naseem shad
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu haina'
Loading...