Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बरस पड़ी आँखें

“बरस पड़ी आँखें”
“क्षणिका”
——————-
कल बादल
भी नहीं थे
तन्हा भी नहीं था
सब थे
आस पास
मन भी
नहीं था उदास !
फिर भी
बेमौसम क्यों?
बरस पड़ी आँखे !
——————-
राजेश”ललित”शर्मा
१७-९-२०१७

288 Views
You may also like:
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Shailendra Aseem
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
*"पिता"*
Shashi kala vyas
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...