Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 7, 2016 · 1 min read

बरसों से,,,,,

बरसों से यक्सर* हमारे पीछे है,
अनजाना इक डर हमारे पीछे है,

फिर दरया में रस्ता पैदा कर मौला,
दुश्मन का लश्कर हमारे पीछे है,

हम शाइर हैं वक़्त से आगे चलते हैं
और हर केलेंडर हमारे पीछे है,

जिन लोगों ने चाँद उगाया था घर में,
उन लोगों का घर हमारे पीछे है,

दुश्मन ने तलवार रखी है सीने पर,
यारों का ख़ंज़र हमारे पीछे है,

हर मंज़र से मंज़र गायब है अशफ़ाक़,
ये कैसा मंज़र हमारे पीछे है,

यक्सर=पूरा पूरा

—-अशफ़ाक़ रशीद….

99 Views
You may also like:
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️घुसमट✍️
"अशांत" शेखर
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माटी
Utsav Kumar Aarya
भरोसा नहीं रहा।
Anamika Singh
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता का दर्द
Nitu Sah
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️दरिया और समंदर✍️
"अशांत" शेखर
पिता की सीख
Anamika Singh
परिवार
Dr Meenu Poonia
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
होली
AMRESH KUMAR VERMA
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
Loading...