Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 1 min read

बरसात

बरसात के
दिन आए सबके
खेत पटाए -1

तपती धूप
छन भर में जाए
फिर लौटाऐ -2

सबके साथ
खेले आँख मिचौली
इ बरसात -3

पेड़ों की डाली
खूब झूमके गाए
मन हर्षाए -4

सुखी धरती
जी भर नहलाए
तृप्त हो जाए -5

प्यसे नदियों
को भी बरसात में
उफान आए -6

बाग बगीचे
सब भी लहराये
हरित छाए -7

मोर पपिहा
तोता कोयल सब
मील गाए -8

झिंगुर कि तो
दिन है लौट आई
बरसात में -9

टर्-टर् कि धुन
शहनाई बजाए
मेढक रानी -10

चारों तरफ
कि गंदगी भी धोए
शुद्ध जल से -11

बच्चे सबके
कागज के नाव ले
जाए बहाए -12

साल भर का
बरसात महिना
पानी दे जाए -13

गरीब रोता
अमीर हँसता है
बरसात में -14

कहीं पानी से
सब खुश होते हैं
हँसते गाते -15

कहीं घर में
टपकती बूंदे इ
बरसात के -16

गम दे जाती
लचारे बेबस को
ये बरसात -17

#किसानपुत्री_शोभा_यादव

202 Views
You may also like:
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
मां
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
My dear Mother.
Taj Mohammad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
💐💐धर्मो रक्षति रक्षित:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
✍️दिल शायर होता है...✍️
"अशांत" शेखर
जिन्दगी मे कोहरा
Anamika Singh
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...