Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बरसात

बरसात

क्या करूँ मैं इस बरसात निंगोड़ी का,
अपनी तो ऐसी बैरन हुई, जी जान से बैर निभावे है !
जब बरसे है झूम झूम,
तृप्त होता सृष्टि का रोम रोम,
एक हम ही दुश्मन इसके,
जब पड़े बूँद गात पर, जिया में आग लगावे हैं !
तड़पे है तन बदन ऐसे,
बिन पानी मछली जैसे,
सारे जग से प्रीत करे, कम्बखत हमसे अच्छा बैर निभावें है !!
!
!
!
डी. के. निवातिया ____!!

2)

बरसात
***
मनभावन सावन वही, वही बरसात है।
दिल में उमंग भी वही, वही जज्बात है।
मेंढक की टर्र-टर्र, सोंधी माटी की खुशबु,
नाचते मयूर, अब कहां मिलती वो सौगात है।।
***
डी के निवातिया

3)
ठीक नहीं

***

बात दिल की दिल में छुपाना ठीक नहीं !
फ़ासले अपनों के बीच बनाना ठीक नहीं !

जिंदगी में रक्खो अपने काम से काम यारो !
तांक- झाँक किसी के आशियाना ठीक नहीं !!

रुत के संग मौसम का बदलना अच्छा है !
बिन मौसम बरसात का आना ठीक नहीं !!

सावन के मौसम में सुलगते अरमान हो !
इस हाल में यारा परदेश जाना ठीक नहीं !!

जिसने कदर न की कभी दिल-ऐ-जज़्बात की !
बेदर्दी हमसफ़र लिए आंसू बहाना ठीक नहीं !!

ये अश्क नहीं कतरे है निशानी मेरे जिगर के,
इन बेशकीमती मोतियों को लुटाना ठीक नहीं !!

बे-वज़ह, बे-वक्त, बेतुकी बाते अक्सर करते है !
ऐसे लोगो की सौबत में “धर्म” आना ठीक नहीं !!
***
डी के निवातिया

4 Likes · 9 Comments · 316 Views
You may also like:
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी हस्ती
Anamika Singh
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
हे गुरू।
Anamika Singh
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐बोधाद्वैते एकता भवति प्रेमाद्वैते अभिन्नता भवति च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️इंतजार में सावन की घड़ियां✍️
"अशांत" शेखर
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
** भावप्रतिभाव **
Dr.Alpa Amin
✍️पिता:एक किरण✍️
"अशांत" शेखर
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
✍️ओर भी कुछ है जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेदर्द -------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ऐ वतन!
Anamika Singh
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
महबूब ए इश्क।
Taj Mohammad
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बारिश की आस✍️
"अशांत" शेखर
Loading...