Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बारिश

1222 1222

मुझे अक्सर रुलाती है
तुम्हें अक्सर हंसाती है
कहीं बह जाए ना फसलें
ये चिंता भी सताती है ।

पला है द्वंद मन में यह
अगर बारिश ना हो पाए।
तो खाएगा ये भारत क्या
अगर अकाल पड़ जाए।
टपकता है मेरा छप्पर
मगर करता दुआएं हूं।
कि बारिश खूब हो जाए
कि बारिश खूब हो जाए।

टपकते बारिशों के संग
मैं अक्सर अश्क खोता हूं।
तुम्हें घर है तो खुशियां है
मैं बेघर हूं तो रोता हूं ।
मुझे फिर भी नहीं कोई
गिला बारिश क्यों आती है?
मुझे अक्सर रुलाती है
तुम्हें अक्सर हंसाती है
कहीं वह चाहे ना फसलें
यह चिंता भी सताती है!!

दीपक झा रुद्रा

2 Likes · 1 Comment · 182 Views
You may also like:
गर्दिशों की जिन्दगी है।
Taj Mohammad
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
मुबारक हो।
Taj Mohammad
“ कोरोना ”
DESH RAJ
✍️ देखते रह गये..!✍️
'अशांत' शेखर
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
न कोई चाहत
Ray's Gupta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पिता की सीख
Anamika Singh
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
'अशांत' शेखर
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
फरिश्ता से
Dr.sima
जग
AMRESH KUMAR VERMA
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
साथ तुम्हारा
मोहन
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"अगली राखी में आऊँगा"
Lohit Tamta
एक मंज़िल हमें मिले कैसे
Dr fauzia Naseem shad
मायके की धूप रे
Rashmi Sanjay
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
हाँ, वह "पिता" है ...........
Mahesh Ojha
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
Loading...