Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 25, 2021 · 1 min read

बरसात- भाग-2

यही कलकल, यही मधम यही भीष्णा है
बरस पड़ा फिर किसी की ख्वाहिश में
देखो यही तो कुदरत का करिश्मा है।
सबसे यह स्वर लड़ाये, ध्वणी में इसके वीणा है
अंबर, धरती और सागर, में इसका जीना है
निर्मित हो आकाश में, और धरा पर इसे मिटना है
मेघ भी छाये, ठंडी समीर भी लाये
वजुद में इसके न कोई तृषणा है।
किसान के कृदन भावों मे बरस पड़ा
उनकी फसल को इसे सींचना है।
न जाने कैसे सिखा इस बरसात ने
हर किसी को कैसे जितना है।
ये छलकता बुंद बन पत्तों में,
परछाई बनती आंखो के काले चक्कों में
कहानी इसकी सिमटी कई परतो में
बारिश फिर बरसा है, बरसेगा
बरसात बन अपनी शर्तों में।

विक्रम कुमार सोनी

10 Likes · 13 Comments · 239 Views
You may also like:
सियासी क़ैदी
Shekhar Chandra Mitra
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
चेहरे पर कई चेहरे ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
आज के नौजवान
DESH RAJ
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
मरने के बाद।
Taj Mohammad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
गधा
Buddha Prakash
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
गम तारी है।
Taj Mohammad
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️एक तारा आसमाँ से टूटा था✍️
"अशांत" शेखर
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
" सहज कविता "
DrLakshman Jha Parimal
दीपावली
Dr Meenu Poonia
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
Loading...