Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2021 · 1 min read

बरसात के विविध रंग

????बरसात के विविध रंग????
बूंद नहीं भावों के मोती, झरते इस बरसात में!
ले आते हैं मचलती तरंगें, अपने संग सौगात में !!
बचपन,तरुण, जवानी,बुढ़ापा सबमें अलग ही भाव जगें,
पर आनंदित हो सबमें मन ,प्रकृति के स्नेहपात में!
बूंद नहीं भावों के मोती झरते इस बरसात में!!

बालकपन में जो गरजे घन, चंचल मन झूमें बूंदों पर,
कागज की नावों पर जैसे, सारे खिलौने हुए न्योछावर !
छाता लेकर भीगें तब तो, बरखा के दिन रात में!!
बूंद नहीं भावों के मोती……………….!

ज्यों तरुणाई में सावन या, भादो की फुहार उठे
मन में उमंगों की लहराते, सोये अबाध बहार उठे
भीगे बिना पूरे कैसे हों, तन मन इस प्रपात में!!
बूंद नहीं भावों के मोती, झरते इस बरसात में! !

यौवन में बरसाती खुशबू, जीवन रस का सार लगे!
प्रियतम संग प्रतिपल वर्षा का, सतरंगी बौछार लगे,
पर विरही मन हो गर प्रिय का, नैन रहें अश्रुपात में
बूंद नहीं भावों के मोती, झरते इस बरसात में! !

ढले यौवन जब हो बुढापा,वर्षा के बादल जब छाते!
यादों के मेले तब आकर,सब किस्सों को फिर दुहराते!!
सराबोर कर जायें गगन घन, जैसे बचपन के मुलाकात में !
बूंद नहीं भावों के मोती, झरते इस बरसात में! !
ले आते हैं मचलती तरंगें, अपने संग सौगात में!!
बूंद नहीं भावों के मोती, झरते इस बरसात में! !!

3 Likes · 6 Comments · 201 Views
You may also like:
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
The flowing clouds
Buddha Prakash
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
*तिरंगा लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
Love Heart
Buddha Prakash
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
” REMINISCENCES OF A RED-LETTER DAY “
DrLakshman Jha Parimal
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
स्वाबलंबन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नया चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
कुछ चेहरे खुशियों में भी नम होते हैं।
Taj Mohammad
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️इश्क़ के बीमार✍️
'अशांत' शेखर
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
'अशांत' शेखर
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
गँउआ
श्रीहर्ष आचार्य
'बेवजह'
Godambari Negi
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
Loading...