Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2021 · 1 min read

बरसात का प्रतिशोध

महज़ बरसात की बूँदों का गिरना ज़रूरी न था
उससे पहले लहलहाते पेड़ों का होना भी ज़रूरी था ,
मगर यह क्या ?
बरसात तो आयी
मगर स्वागत को विटप न मिले ,
बूँदें बिना हरियाली के आलिंगन के
छन से धरती पे गिर गयीं
गिर के उनका अस्तित्व भी मिट चला
धरती पर भी उन्हें रोकने वाला कोई न था ,
बरसात ने सोचा –
की विज्ञान तो हमारा खूब उन्नत है
तब भी क्या हम वृक्षों की महत्ता न समझ पाए
क्या हम वर्षा का जल संचय करना सीख न पाए ,
अब कुछ तो वर्षा – रानी नाराज़ हुई
बोली हे मानव ! तुमने मुझे नहीं समझा
मेरे महत्व को नहीं समझा
मेरे मित्र वृक्षों को काट डाला
तो अब अगले बरस मैं न आउंगी
अब न बरसूँगी मैं –
तुम्हारे सावन – भादों यूँ ही सूने हो जायेंगे
तुम यूँ ही सूरज की तपन से तप जाओगे
तुम यूँ ही आसमान को ताकते रहना
पर मैं न आउंगी ……
लूँगी प्रतिशोध मैं भी अपमान का …
मेघों का दल ज़रूर आएगा …
चंचल – चपल चपला भी आएगी
पर बिना तरु – समीर मैं न आउंगी
तब तो तुम समझोगे न की –
महज़ बरसात की बूँदों का गिरना ज़रूरी न था
उससे पहले लहलहाते पेड़ों का होना भी ज़रूरी था |

द्वारा – नेहा ‘आज़ाद’

4 Likes · 11 Comments · 390 Views
You may also like:
तेरी जान।
Taj Mohammad
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
जज बना बे,
Dr.sima
गीत -
Mahendra Narayan
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
जंग
shabina. Naaz
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
कभी कभी।
Taj Mohammad
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
**साधुतायां निष्ठा**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️तुम पुकार लो..!✍️
'अशांत' शेखर
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उन्हें क्या पता।
Taj Mohammad
शब्दों से परे
Mahendra Rai
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
समाजसेवा
Kanchan Khanna
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
Loading...