Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

बरसात और तुम

जब तुमसे मिलने की ऋतु बरसात के साथ आती है,
तो मेरी आँखें पावस की दिशा में टकटकी लगाये देखती रहती हैं।

बरसात की हवा के स्पर्श में,
मेरी त्वचा तेरी मख़मली हाँथों को ढूंढ़ती रहती है।

सौंधी मिट्टी और तेरी खुशबू मिल कर जो इत्र बनाती हैं,
उसकी याद में मेरी नासिका मचलती रहती है।

घनी घटाओं की धीमी सी गड़गड़ाहट के बीच में,
मुझे तेरी खिलखिलाती हुई सी हंसी सुनाई देती रहती है।

मैं बंज़र ज़मीन बन जाता हूँ तेरी याद में,
और तू आकर मेरी अभिलाषाओं पे बरसती रहती है।

– सिद्धांत शर्मा

3 Likes · 4 Comments · 170 Views
You may also like:
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
"अशांत" शेखर
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
kumar Deepak "Mani"
ईश्वर के संकेत
Dr.Alpa Amin
✍️फासले थे✍️
"अशांत" शेखर
कुछ हम भी बदल गये
Dr fauzia Naseem shad
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
साथ किसने निभाया है
Dr fauzia Naseem shad
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr.Alpa Amin
हम और... हमारी कविताएँ....
Dr.Alpa Amin
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हासिल ना हुआ।
Taj Mohammad
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेमकसद जिंदगी।
Taj Mohammad
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
तू सर्दियों की गुनगुनी धूप सा है।
Taj Mohammad
हम भी इसका
Dr fauzia Naseem shad
अदीब लगता नही है कोई।
Taj Mohammad
मैने देखा है
Anamika Singh
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
पिता
Vijaykumar Gundal
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
Loading...