Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 1 min read

बरसात आंसुओं की छलक छलक जाए

धरती मां तेरी पीड़ा नैनो में ना समाए।
बरसात आंसुओं की छलक छलक जाए।
नादान हाय मानव करता है तेरा दोहन।
कैसे यों नौंच डाले इसने मां तेरे ये आभूषण।
दिन रात ए मनुज क्यों करता है तू प्रदूषण।
बेहाल हो धरा जब करती है करुण क्रंदन।
तेरी पुकार सुनकर मां हृदय रो रो जाए।
बरसात आंसुओं की छलक छलक जाए।
निज स्वार्थ हेतु मानव! वृक्षों को काटता है।
निर्दोष परिंदों के तू ! घर क्यों उजाड़ता है।
अनमोल सांसें अपनी, खतरे में डालता है।
तू! क्यों यूं अपनी मौत का सामान बांधता है।
तेरी इस दुर्गति पर अब लाज मुझको आए।
बरसात आंसुओं की छलक छलक जाए।
विकसित हुआ वतन है, संस्कृति का पतन है।
धुंआ उगलती चिमनी, सांसों में अब घुटन है।
मायूस हर कली है, उजड़ा सा अब चमन है।
दूरी भी है दिलों में ,रिश्तों में अब चुभन है।
दुर्दशा अब मनुज की देखी न रेखा जाए।
बरसात आंसुओं की छलक छलक जाए।

1 Like · 1 Comment · 140 Views
You may also like:
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
एकाकीपन
Rekha Drolia
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
तुमसे थी उम्मीद
Anamika Singh
बेशक
shabina. Naaz
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
" स्वतंत्रता क्रांति के सिंह पुरुष पंडित दशरथ झा "
DrLakshman Jha Parimal
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
ख्वाब तो यही देखा है
gurudeenverma198
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
एक जवानी थी
Varun Singh Gautam
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
आ जाओ राम।
Anamika Singh
Loading...