Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2021 · 2 min read

बरसाती कुण्डलिया नवमी

(1.)

मौसम यह बरसात का, पृथ्वी पर उपकार
हरियाली पर्यावरण, ऋतुओं का उपहार
ऋतुओं का उपहार, मास ये सावन-भादो
होते पूरे साल, माह श्रेष्ठतम यही दो
महावीर कविराय, ख़ुशी बारिश में औसम
सबकी ख़ातिर ख़ास ,बरसात का यह मौसम

(2.)

तन-मन फिर खिलने लगे, आयी है बरसात
अक्सर खुशियाँ साथ में, लायी है बरसात
लायी है बरसात, मौज मस्ती में झूमे
काग़ज़ की इक नाव, संग ले बालक घूमे
महावीर कविराय, हुए मोहित काले घन
रिमझिम गिरती बून्द, भीगते जाएँ तन-मन

(3.)

वर्षा ही इस विश्व को, देती जीवनदान
लौटे फिर बरसात से, कोटि-कोटि में प्रान
कोटि-कोटि में प्रान, सभी के मन हर्षाये
हरियाली के राग, सुनाते वन मुस्काये
महावीर कविराय, सदा ही जन-जन हर्षा
जब जब वर्षा गान, सुनाती आई वर्षा

(4.)

सावन के बदरा घिरे, सखी बिछावे नैन
रूप सलोना देखकर, साजन हैं बेचैन
साजन हैं बेचैन, भीग न जाये सजनी
ढलती जाये साँझ, बढे हरेक पल रजनी
महावीर कविराय, होश गुम हैं साजन के
मधुर मिलन के बीच, घिरे बदरा सावन के

(5.)

मधुरिम मधुर फुहार है, बरखा की बौछार
शीतलता चारो तरफ़, मन पे चढे ख़ुमार
मन पे चढे ख़ुमार, हृदय को भाते प्रेमी
गिरी सभी दीवार, झूमते गाते प्रेमी
महावीर कविराय, पड़ीं बून्दें ज्यों रिमझिम
मनभाये बौछार, फुहार लगे त्यों मधुरिम

(6.)

छह ऋतु बारह मास हैं, ग्रीष्म, शरद, बरसात
स्वच्छ रहे पर्यावरण, सुबह-शाम, दिन-रात
सुबह-शाम, दिन-रात, न कोई करे प्रदूषण
वसुंधरा अनमोल, मिला सुन्दर आभूषण
जिसमें हो आनंद, सुधा समान है वह ऋतु
महावीर कविराय, मिले ऐसी अब छह ऋतु

(7.)

नदिया में जीवन बहे, जल से सकल जहान
मोती बने न जल बिना, जीवन रहे न धान
जीवन रहे न धान, रहीमदास बोले थे
अच्छी है यह बात, भेद सच्चा खोले थे
महावीर कविराय, न कचरा कर दरिया में
जल की कीमत जान, बहे जीवन नदिया में

(8.)

होंठों पर है रागनी, मन गाये मल्हार
बरसे यूँ बरसों बरस, मधुरिम-मधुर-फुहार
मधुरिम-मधुर-फुहार, प्रीत के राग-सुनाती
बहते पानी संग, गीत नदिया भी गाती
महावीर कविराय, ताल बंधी सांसों पर
जीवन के सुर सात, गुनगुनाते होंठों पर

(9)

कूके कोकिल बाग़ में, नाचे सम्मुख मोर
मनोहरी पर्यावरण, आज बना चितचोर
आज बना चितचोर, पवन शीतल मनभावन
वर्षाऋतु में मित्र, स्वर्ग-सा लगता जीवन
महावीर कविराय, युगल प्रेमी मन बहके
भली लगे बरसात, ह्रदय कोकिल बन कूके

***

10 Likes · 24 Comments · 660 Views
You may also like:
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौसम की गर्मी
Seema 'Tu hai na'
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
Dear Mummy ! Dear Papa !
Buddha Prakash
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
✍️गहरी साजिशें
'अशांत' शेखर
मेरे तुम
अंजनीत निज्जर
*"वो भी क्या दीवाली थी"*
Shashi kala vyas
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
#मैं_पथिक_हूँ_गीत_का_अरु, #गीत_ही_अंतिम_सहारा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मिसाल और मशाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
सही मार्ग अपनाएँ
Anamika Singh
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किसी के दर्द को
Dr fauzia Naseem shad
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
अंधभक्ति की पराकाष्ठा
Shekhar Chandra Mitra
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
इश्क है यही।
Taj Mohammad
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
कुछ सवाल
manu sweta sweta
गीत -
Mahendra Narayan
Loading...