Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 18, 2021 · 1 min read

“बरसती आंखे”

बरसात होती हैं आँखो से ,
जब एक औरत की उलाहना होती है…

बरसात होती हैं आँखो से,
जब उसका बनाया खाना
उसके ससुराल वालो को बेस्वाद लगता है ….

बरसात होती है आँखो से,
जब उसको बताया जाता की
करती हो क्या तुम घर पर रहकर सिवाय आराम के….

बरसात होती है आँखो से,
जब वो उसकी ख्वाहिशो को मारकर
दूसरो के लिए जीती हैं …..

बरसात होती हो आँखो से,
जब यह पुरूषप्रधान समाज
एक औरत के चरित्र पर ऊगली उठाता है….

बरसात होती है आँखो से,
और हमेशा होती रहेगी
पर बरसात होने के बाद
औरत के दिल की मिट्टी मे वो नमी आती है
ज़िससे वह मजबूत और मजबूत होती जाती है….
-सुरभी

1 Like · 2 Comments · 205 Views
You may also like:
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
दीपावली
Dr Meenu Poonia
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ जाओ राम।
Anamika Singh
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
Loading...