Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2022 · 2 min read

बरगद का पेड़

✍️
#बरगद का पेड़ (बरगद होने का सुख)
अब नहीं लुभाता,
बचपन से लुभाता रहा है मुझे बरगद का पेड़।
क्योंकि सभी तुलना करते थे
बड़े भैया की, बरगद से!
जैसे बरगद की छांव में सभी विश्राम करते थे, सुकून चैन पाते थे,
चौपाल लगती थी,
गन्ने के रस वाले की रेहड़ी लगती थी,
साइकिल के पंक्चर जोड़ने वाला भी,
ठौर पाता था,
और अल्लसुबह हम बच्चे!
उसकी जटाओं,
जड़ों को जोड़ झूला झूलने की कोशिश करते थे। ऐसे ही भैया भी,
पिता के स्वर्गवास के बाद,
बरगद हो गए।
उन की छाया में जो वह कह दें,
#ब्रह्मवाक्य मान खुद को धन्य समझा।
सुरक्षित महसूस किया!
समयांतर,
फिर पता चला,
बरगद के नीचे कोई छोटा पौधा
या घास तक
अपनी जगह नहीं बना पाती।
क्योंकि उनमें,
अपने अस्तित्व को बचाए रखने की हैसियत (हिम्मत, हौसला) ही नहीं होती।
और मुझे लगा,
मेरे भी अस्तित्व की लड़ाई में
#बरगद भाई हावी हैं।
वह दया करने में, आश्रय देने में,
बड़प्पन लेने में तो खुश हैं,
लेकिन मेरी पहचान, मेरा वजूद
बनने में उन्हें तकलीफ है,
मैं भी स्थापित होना चाहता हूं।
बरगद ना सही,
पर मैं भी कहीं जड़ें तो फैला सकूं।
कहीं तो मैं भी स्वयं,
बिना बैसाखी, खड़ा हो सकूं।
यही नागवार है! भाई के लिए,
समाज भी मुझे एहसान फरामोश कह, खुश है। क्या अपना वजूद तलाशना या बनाना गुनाह है? और अगर गुनाह है,
तो भी मैं यह गुनाह करूंगा।
घुट घुट कर जीना भी,
आत्महत्या जैसा ही है,
और मैं यह पाप नहीं करुंगा।
शायद इसीलिए मुझे नहीं लुभाता,
अब बरगद का वह #बचपन वाला पेड़!!
क्योंकि बरगद नहीं देख सकता,
किसी को अपने #स्तर तक आते हुए।
___ मनु वाशिष्ठ कोटा जंक्शन राजस्थान

151 Views
You may also like:
✍️ज़ख्मो का स्वाद✍️
'अशांत' शेखर
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
💐परमात्मा एव संसार-रूपेण प्रकट: भवति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
मेहनत
Arjun Chauhan
शहर-शहर घूमता हूं।
Taj Mohammad
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
💐💐शरणागतस्य सर्वाणि कार्याणि परमात्मना भवन्ति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
मेरी हस्ती
Anamika Singh
बेटी का संदेश
Anamika Singh
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
फिर तुम उड़ न पाओगे
Anamika Singh
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
#दोहे #अवधेश_के_दोहे
Awadhesh Saxena
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
इज्जत
Rj Anand Prajapati
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...