Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

बन्दिगी

बन्दिगी,
बंदिशों का काम नहीं,
ये तो वो शय है,
जो आज़ाद उतरती है।
-मोनिका

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"मतलब समझाना
*Author प्रणय प्रभात*
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
खुशामद किसी की अब होती नहीं हमसे
खुशामद किसी की अब होती नहीं हमसे
gurudeenverma198
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
****उज्जवल रवि****
****उज्जवल रवि****
Kavita Chouhan
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
चुप
चुप
Ajay Mishra
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
Loading...