Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 17, 2022 · 1 min read

बनकर कोयल काग

बुद्ध धरा से है उठी, इक जुटता की राग।
होगा ना कल्याण यूँ, बनकर कोयल काग।।

गर ऐसे लड़ते रहे, मिट जाएगा नाम।
संघ -संघ को त्याग दें, बन जाएगा काम।।

जब तक हम निज स्वार्थ का, नही करेंगे त्याग।
धधकेगी यूँ ही सदा,नही बुझेगी आग।।

मै ही मै की भावना, भरी हुई है आज।
मै की खातिर भूलते, हम से बनता काज।।
✍️जटाशंकर”जटा”

1 Like · 289 Views
You may also like:
हम तेरे रोकने से
Dr fauzia Naseem shad
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
वतन से यारी....
Dr.Alpa Amin
वक्त बदलता रहता है
Anamika Singh
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
तुमने वफा न निभाया
Anamika Singh
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" शिवोहम रिट्रीट "
Dr Meenu Poonia
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाने कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
नव भारत
पाण्डेय चिदानन्द
*खाट बिछाई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पहली भारतीय महिला जासूस सरस्वती राजमणि जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
✍️दिशाभूल✍️
'अशांत' शेखर
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
✍️आस्तीन में सांप✍️
'अशांत' शेखर
Loading...