Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 3, 2022 · 1 min read

बद्दुआ बन गए है।

दुआओं में जिनको मांगा था।
वही अब बद्दुआ बन गए है।।

दिल जिनकी इबादत करता था।
वही किसी और के खुदा बन गए है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 2 Comments · 72 Views
You may also like:
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
अरदास
Buddha Prakash
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
"अशांत" शेखर
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...