Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#18 Trending Author

बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं

कभी हिन्दू, कभी मुस्लिम, कभी ईसाई टोपी है।
पहनते हैं कभी पगड़ी, अदा इनकी अनोखी है।।
न ईश्वर से इन्हें मतलब,न अल्ला से ही मतलब है।
न सिख ईसाई से मतलब, इन्हें वोटों से मतलब है।।
कभी मंदिर में जाते हैं, कभी मस्जिद में जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।।
कभी भंडारे में जाते हैं, कभी अफ्तारी कराते हैं ।
कभी पीते पवित्र जल हैं, कभी लंगर में जाते हैं।।
बात भाईचारे की करते हैं, अंदर छुरियां चलाते हैं।
बांट फिरकों में कौमें, यही दंगे भी कराते हैं।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

4 Likes · 3 Comments · 200 Views
You may also like:
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
कवि
Vijaykumar Gundal
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
कोहिनूर
Dr.sima
मेरे पापा।
Taj Mohammad
सच्चाई का दर्पण.....
Dr. Alpa H. Amin
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
जीवन मेला
DESH RAJ
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
वसंत का संदेश
Anamika Singh
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
✍️'महा'राजनीति✍️
"अशांत" शेखर
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
Loading...