Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बदलते रिश्ते

“बदलते रिश्ते”
~~~~~~~~

मैं किस रिश्तों की, बात करूं;
हर रिश्ते ही, अब तो सस्ते है।
जहां कोई भी, नुकसान दिखे;
नफा हेतु ही, बदलते रिश्ते हैं।
रिश्तों में अब, कोई दम कहां;
ये तो बिखरें पड़े हैं,जहां-तहां।
सब ही,निजस्वार्थ से चलते हैं;
मौसम की तरह, अब सदा ही;
वक्त-बेवक्त , बदलते रिश्ते हैं।
एक रिश्ता होता,जब माॅं मिले;
तभी बेटा या बेटी, रहते खास;
फिर तो तभी, बदलते रिश्ते हैं;
जब रिश्तों में , आ जाए सास।
एक रिश्ता दिखे,निजभाई का;
टिके,जबतक मन भौजाई का।
हरेक भाई को,बहन याद आए;
बहना , राखी के रिश्ते निभाए।
पुत्र व माता-पिता , के रिश्ते में;
दिखती सदा,रिश्तों की गहराई;
सुपुत्र सादर करते, उनकी सेवा;
जब-तक न आए,घर में लुगाई।
अब तो,प्रायः बेटी के रिश्ते को;
कन्या-दान से भी, मिले बिदाई।
खून के ही रिश्ते सारे,होते प्यारे;
पर रिश्ते अब,बन गए हैं बेचारे।
अब रिश्तों में, न कोई प्रेम दिखे;
रिश्ते सब, सिर्फ हाथों से लिखे।
किन रिश्तों को, मैं भला बताऊं;
कैसे कहूं, किसमे मेह मिलते हैं।
मानो , बचपन में स्नेह मिलते हैं;
फिर आगे, सारे ‘बदलते रिश्ते’हैं।
“°°°°°°°°°°°°°🙏°°°°°°°°°°°°°

#स्वरचित_सह_मौलिक;
……. ✍️पंकज ‘कर्ण’
…….कटिहार(बिहार)।

5 Likes · 2 Comments · 253 Views
You may also like:
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
'अशांत' शेखर
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
'अशांत' शेखर
मेहनत का फल
Buddha Prakash
✍️✍️रंग✍️✍️
'अशांत' शेखर
सुरज और चाँद
Anamika Singh
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
हुनर बाज
Seema Tuhaina
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
स्वतंत्रता की सार्थकता
Dr fauzia Naseem shad
✍️सब्र कर✍️
Vaishnavi Gupta
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️मातम और सोग है...!✍️
'अशांत' शेखर
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️मैं जलजला हूँ✍️
'अशांत' शेखर
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...