Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 31, 2021 · 1 min read

बदरिया ओ बदरिया अब तो बरसो मेरे देश

बदरिया ओ बदरिया अब तो , बरसो मेरे देश ।
बूँद-बूँद को तरसी धरती,तरसे हैं परिवेश ।।

तपती सड़कें तपते घर हैं तपते भवन अनूप
सूखी नदियाँ सूखे पोखर सूख गये हैं कूप
झुलसे तरुवर झुलसी पाती झुलसे इनके रुप
खेती क्यारी पूछ रही क्यों मेघा गये विदेश ।।
बदरिया ओ बदरिया ……….. ।।

संग लहू के चले पवन है कुछ कर सके न भूप
जनता करती त्राहि-त्राहि जब लगती तीखी धूप
तेज ताप से चढ़ता पारा छीने रुप अनूप
पेड़ लगाओ नीर बचाओ वांचे सब उपदेश।।
बदरिया ओ बदरिया………… ।।

मन्द सुगन्ध चले पुरवाई बैरिन बोले झूठ
उड़े मेघ सब बिन बरसे ही गये बे वजह रुठ
हुई त्रषित कण-कण धरती माँ पीकर सूखे घूँट
दे जाओ अंजुरी भरि ही जल भेजे भू सन्देश.।।
बदरिया ओ बदरिया……… ।।

?✍️✍️?
*डॉ. रीता सिंह*
असिस्टेंट प्रोफेसर
राजनीति विज्ञान विभाग
एन. के. बी. एम. जी. पी. जी. कालेज – चन्दौसी
जनपद – सम्भल(उ.प्र.)

3 Likes · 6 Comments · 281 Views
You may also like:
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
शासन वही करता है
gurudeenverma198
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
*#आलू_जिंदाबाद (#हास्य_व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मेरे दिल को
Shivkumar Bilagrami
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
✍️बहन भाई की सलामती चाहती है✍️
'अशांत' शेखर
मेरे पापा
Anamika Singh
शेखर जी आपके लिए कुछ अल्फाज़।
Taj Mohammad
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
धूप में साया।
Taj Mohammad
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
" ठंडी ठंडी ठंडाई "
Dr Meenu Poonia
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
उसकी बातें
Sandeep Albela
समय
AMRESH KUMAR VERMA
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
I feel h
Swami Ganganiya
Loading...