Sep 13, 2016 · 1 min read

बदरा

उमड़ घुमड़ बरस रये बदरा
हुलस हुलस मन बह रयो कजरा
आय रयी है याद पुरानी
मीठीसी कोई प्रीत पुरानी
अधरों पे नाचे कोई कहानी
भूल उमरिया झूमे जवानी
अंग अंग में उमंग है फूटी
अहसासों की लडी़ अनूठी
पी के दरस की प्यासी अंखियां
पल पल राह देखें भूल के सखियां
बरस रहा आज जो सावन
हुआ बावरा मन का आंगन
देख लिपट पेड़ो से लताएं
झूम झूम कर मन को जलाएं
जलन विरह की पल पल सताए
प्यास मिलन की देह को जलाए
बरस बरस और तपन बढ़ाए
कहे सजनी साजन क्यूं ना आए
झूम झूम डोले अमुवा की डाली
गाये दूर कहीं कोयल मतवाली
उमड़ घुमड़ बरस गये बदरा

नूतन

1 Like · 3 Comments · 154 Views
You may also like:
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H.
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Santoshi devi
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H.
Loading...