Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 28, 2022 · 1 min read

बदनाम होकर।

बदनाम होकर तुम्हारी ज़िन्दगी से हम चले जाएंगें।
हम तो वैसे भी थे बेकार अब थोड़ा औऱ हो जाएंगे।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

53 Views
You may also like:
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
'अशांत' शेखर
निज़ामी आसमां की।
Taj Mohammad
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
✍️✍️माँ✍️✍️
'अशांत' शेखर
मोहब्बत।
Taj Mohammad
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
अगर की हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
ये निम खामोशी तुम्हारी ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल...
ओनिका सेतिया 'अनु '
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
खुद के बारें में
Dr fauzia Naseem shad
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
'तुम्हारे बिना'
Rashmi Sanjay
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
ये हरियाली
Taran Singh Verma
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...