Jan 26, 2018 · 1 min read

*बताना क्या है*

हमें कितनी मोहब्बत है तुमसे,बताना क्या है।
गीत रह जाएंगे गुंन गुनाने के लिए,जताना है।।

हमारे बुजुर्गों के हौशले नहीं पढ़े तुमने अभी
जिशम ए रंग निछावर कर दिया जाना क्या है।।

बांहे उंगलियां वेदर्द काट फेंकीं भिखमंगों के लिए
कैसा कम्पन ,क्रंदन कैसा, वेखौप, पैमाना क्या है।।

मग़र जमाने की रूह तक मैली नहीं हुई अफ़सोस है
कालिख़ ऐ जिगर की नज़रें झुकेंगी, बहाना क्या है।।

हमारी मोहब्बत के बदले हमें सजा मिलती है यहाँ
कितनी गहरी दरिया में जान दे मरें ,सताना क्या है।।

यहीं धरा रह जाएगा यह ,सब जानते हैं बखूबी मग़र
हम सफा दिल हैं साहब नापाक नहीं बहकाना क्या है।।

131 Views
You may also like:
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बचपन
Anamika Singh
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Rajiv Vishal
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H.
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H.
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
अरदास
Buddha Prakash
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
Loading...