Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 11, 2022 · 1 min read

बड़ी शिकायत रहती है।

बड़ी शिकायत रहती है तुम को खुदा से,,,
कभी देखो कैसे जिंदगी रहती है यहां पे!!!
पीने को पानी नहीं खाने को खाना नही,,,
सोने को बिस्तर नही रहने को छत नहीं,,,
सारी ही जिन्दगी ये जद्दो जहद करते है,,,
फिर भी लबों पर कोई भी शिकवा नहीं!!!

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 45 Views
You may also like:
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
शहीद-ए-आजम भगतसिंह
Dalveer Singh
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
'अशांत' शेखर
भूल ना पाऊं।
Taj Mohammad
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
A solution:-happiness
Aditya Prakash
सूरज की पहली किरण
DESH RAJ
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr.Alpa Amin
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
बेजुबान
Anamika Singh
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
माँ का प्यार
Anamika Singh
गीत
Kanchan Khanna
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
Loading...