Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

“बड़ा सवाल”

“बड़ा सवाल”
वो कैसा दौर इतिहास का
जब पुत्र ही होता था,
कैसा वो वरदान था जिसमें
नारी का जन्म न होता था?
गांधारी के पूरे एक सौ पुत्र हुए
और कुन्ती के छह,
क्या मार दी जाती रही नारियाँ
ऐ जमाना कुछ कह??

34 Views

Books from Dr. Kishan tandon kranti

You may also like:
हिंदी दोहे बिषय- विकार
हिंदी दोहे बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
रामचरित पे संशय (मुक्तक)
रामचरित पे संशय (मुक्तक)
पंकज कुमार कर्ण
भ्रष्ट राजनीति
भ्रष्ट राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
कवि दीपक बवेजा
ये कैसी आज़ादी - कविता
ये कैसी आज़ादी - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
Dr. Pratibha Mahi
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
अक्षत और चूहों की बस्ती
अक्षत और चूहों की बस्ती
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
गुनहगार तू भी है...
गुनहगार तू भी है...
मनोज कर्ण
प्रेम का गीत ही, हर जुबान पर गाया जाए
प्रेम का गीत ही, हर जुबान पर गाया जाए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* हे सखी *
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
करन मीना ''केसरा''
आत्मसम्मान
आत्मसम्मान
Versha Varshney
उसूल है।
उसूल है।
Taj Mohammad
तुमको बदनाम करेगी
तुमको बदनाम करेगी
gurudeenverma198
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-2)
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-2)
Sahityapedia
*चाय (कुंडलिया)*
*चाय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
डी. के. निवातिया
💐प्रेम कौतुक-253💐
💐प्रेम कौतुक-253💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या हार जीत समझूँ
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
*Author प्रणय प्रभात*
नसीब
नसीब
Buddha Prakash
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
Dr Manju Saini
✍️आकाशदीप
✍️आकाशदीप
'अशांत' शेखर
It is not necessary to be beautiful for beauty,
It is not necessary to be beautiful for beauty,
Sakshi Tripathi
व्हाट्सएप के दोस्त
व्हाट्सएप के दोस्त
DrLakshman Jha Parimal
Loading...