Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 9, 2022 · 1 min read

बड़ा भाई बोल रहा हूं

हेलो हेलो हां भाई छोटे तेरा बड़ा भाई बोल रहा हूँ ।
बहुत अर्से बाद में दिल की गहराई से बोल रहा हूँ।।

याद आए आज मुझे भी तेरे बचपन वाले किस्से।
बचत अपनी बचा कर देता था तुझे बचत के पैसे ।।
दुकान पर जाकर चीजों से भरी हुई वह झोली ।
बचपन की यादों में जाकर गोली खेल रहा हूं ।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे…………………………….

याद आती है मुझे वह गांव वाली धूल भरी फिरनी ।
मां दंरात से काटती थी वह हरे साग वाली चीरनी।।
एक थाली में खाते टिंडी सरसों बाद में वो हिंगोली।
बचपन में खाए हुए हलवे की मिठाई बोल रहा हूँ।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे……………………………

याद तुझे है क्या छोटे नत्थू माली के बाग में जाना।
आमों की टहनी पर बैठकर कच्चे आमों को चुराना।।
उस रामलाल के खेत में जाकर खरबूजो को खाना ।
तुझे बचाने के लिए कमर वाली पिटाई बोल रहा हूँ।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे…………………………….

याद तुम्हें है कंधो पर बैठा दिखाना गांव वाला मेला।
पुरानी चप्पलों को काट बनाता तेरा रबड़ वाला ठेला।।
खेतो वाली मंढेरो पर जा भंभीरी धागा बांध उड़ाना।
आज उसी रंगीन भंभीरी वाली रफ्तार से बोल रहा हूँ।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे………………………………..

याद मुझे है भाई तेरा हर बचपन का सफर सुहाना।
जब शहर से वापस आओ मेरा वही बचपन लाना।।
भाई की बाजू तरस रही है मेरी बाजू बन कर आना ।
हां भाई हां मैं भी सतपाल छोटा भाई बोल रहा हूँ।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे……………………….

2 Likes · 2 Comments · 139 Views
You may also like:
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
की बात
AJAY PRASAD
पुराने खत
sangeeta beniwal
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
मरने के बाद।
Taj Mohammad
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️मैं और वो..(??)✍️
"अशांत" शेखर
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Raju Gajbhiye
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
Loading...