Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 17, 2022 · 1 min read

बच्चों के पिता

रूठें हैं बच्चें आज उनको मनाने,
ढेर सारे खिलौने लेकर आया है पिता.

अच्छा तुम्हें और क्या चाहिए? बताओ ना?
बच्चों को मनाते हुए पुछ रहा है पिता.

बच्चों की कई एसी शरारतों को,
डांट फटकार कर फिर भुला देता है पिता.

हर वक्त बच्चों की खुशियों में ही,
अपनी खुशियाँ ढूँढता फिरता है पिता.

वक्त बेबक्त बच्चों को हिदायतें देते रहता
बच्चों की का़मायाबी चाहता है हर एक पिता.

लाख तक़लीफ़े ही क्यूँ ना हो फिर भी?
सीधे मुँह अपने बच्चों से कह नहीं पाता है पिता.

बिटीया तो अब सयानी हो गई
डोली में बिठा कैसे बिदा कर पाएगा पिता?

बच्चें पैरों पे खड़े हो खुशहाल ज़िदंगी हो,
यही चिंता और दुआएं करता है पिता.

कवि- डाॅ. किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)

नोट:- काव्य प्रतियोगिता के लिए मौलिक एवं स्वरचित रचना

7 Likes · 12 Comments · 333 Views
You may also like:
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
तुझसे रूबरू होकर,
Vaishnavi Gupta
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
✍️बुलडोझर✍️
'अशांत' शेखर
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr.Alpa Amin
✍️जुस्तजू आसमाँ की..✍️
'अशांत' शेखर
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr.Alpa Amin
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राज का अंश रोमी
Dr Meenu Poonia
बहार के दिन
shabina. Naaz
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
वेवफा प्यार
Anamika Singh
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
हर लम्हा।
Taj Mohammad
अविश्वास
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
सच एक दिन
gurudeenverma198
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
'देवरापल्ली प्रकाश राव'
Godambari Negi
दिया और हवा
Anamika Singh
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
Loading...