Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2022 · 1 min read

बच्चों के पिता

रूठें हैं बच्चें आज उनको मनाने,
ढेर सारे खिलौने लेकर आया है पिता.

अच्छा तुम्हें और क्या चाहिए? बताओ ना?
बच्चों को मनाते हुए पुछ रहा है पिता.

बच्चों की कई एसी शरारतों को,
डांट फटकार कर फिर भुला देता है पिता.

हर वक्त बच्चों की खुशियों में ही,
अपनी खुशियाँ ढूँढता फिरता है पिता.

वक्त बेबक्त बच्चों को हिदायतें देते रहता
बच्चों की का़मायाबी चाहता है हर एक पिता.

लाख तक़लीफ़े ही क्यूँ ना हो फिर भी?
सीधे मुँह अपने बच्चों से कह नहीं पाता है पिता.

बिटीया तो अब सयानी हो गई
डोली में बिठा कैसे बिदा कर पाएगा पिता?

बच्चें पैरों पे खड़े हो खुशहाल ज़िदंगी हो,
यही चिंता और दुआएं करता है पिता.

कवि- डाॅ. किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)

नोट:- काव्य प्रतियोगिता के लिए मौलिक एवं स्वरचित रचना

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 14 Comments · 434 Views
You may also like:
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
जब गुरु छोड़ के जाते हैं
Aditya Raj
ना कर नजरअंदाज
Seema 'Tu hai na'
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
संस्कृति का दंश
Shekhar Chandra Mitra
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
*सद्विचारों का सुखद भंडार भर लेना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Sahityapedia
In my Life.
Taj Mohammad
स्वतंत्रता दिवस
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
क्या क्या कह दिया मैंने
gurudeenverma198
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
क्या तुम आजादी के नाम से, कुछ भी कर सकते...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💎🌴अब न उम्मीद बची है न इन्तजार बचा है🌴💎
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
हिंदी दिवस
Aditya Prakash
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
Sushila Joshi
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...