“बच्चे “

जो कोरे कागज सी खुशबू लिये
सुबह सुबह बस्तों का बोझ लिये
नये रंग , नये ढंग ,नये तेवर लिये
चलते हैं ज़िंदगी को मनाने के लिये
उन नौनिहालों से जवाब तो पूछिये
कि किस तरह बेरहम बस्ते उनकी
नाज़ुक पीठ पर घुड़सवारी करते
नन्ही-सी गर्दन पर मानो चाबुक मारते,
कब तक चलना है , उन्हे पता नहीं
दायें मुड़, बायें मुड़, तेज चल ,
मगर क्यों ,कहाँ , पता नहीं ,
ये जिन्दगी के तार जोड़ते,
सपनों की तितलियों को पकड़ते,
हमारे प्यारे नन्हे, देश के बच्चे.
…निधि…

150 Views
You may also like:
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H.
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*"पिता"*
Shashi kala vyas
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Shankar J aanjna
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...