Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 3, 2021 · 1 min read

बच्चे — शिक्षा — परीक्षा —- कविता

“”बच्चे ____शिक्षा_______परीक्षा””
वैसे तो वक़्त ने,
हर क्षेत्र को गहरा आघात दिया है।
किसी का चिराग बुझा है।
किसी को कुछ न सूझा है।।
ली है परीक्षा सब की वक़्त ने,
घात- प्रतिघात किया है।।
लगे बच्चे भूलने स्कूल क्या होते है ?
रात दिन मोबाइल के संग होते है।
दुष्प्रभाव इसका कितना वे क्या जाने।
धीरे धीरे ही सही पर नेत्र ज्योति खोते है।।
रोको टोको कब तक उनको,
क्योंकि उनके पास स्कूल के काम कहां होते है।।
जैसे तैसे पढ़ रहे थे,तैयारी परीक्षा की कर रहे थे।
अब वह परीक्षा भी रद्द हुई,
पढ़ने वालों को मिली निराशा,
रुचि नहीं थी जिनकी,दिल में उनके खुशी हुई।।
बच्चे हो या हम,कर भी क्या सकते है।
वक़्त के साथ चलना पड़ेगा ।
बीत रहा है दौर यह धीरे धीरे ।
बचपन आज नहीं तो क्या?
आने वाले कल को तो पड़ेगा।
शिक्षा अच्छी लेगा।
हर परीक्षा देगा।
मंजिल अपनी प्राप्त करेगा।।
राजेश व्यास अनुनय

4 Likes · 4 Comments · 186 Views
You may also like:
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
✍️अलहदा✍️
'अशांत' शेखर
😊तेरी मिरी चिड़ी पीड़ि😊
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
'अशांत' शेखर
मेरी हस्ती
Anamika Singh
बचपन की यादें।
Anamika Singh
कैसा मोजिजा है।
Taj Mohammad
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
एक छोटी सी बात
Hareram कुमार प्रीतम
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
बेवफाई
Anamika Singh
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
नसीब
DESH RAJ
'' पथ विचलित हिंदी ''
Dr Meenu Poonia
पता नहीं तुम कौनसे जमाने की बात करते हो
Manoj Tanan
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
*श्री शचींद्र भटनागर : एक अध्यात्मवादी गीतकार*
Ravi Prakash
Loading...