बचा सको तो बचा लो तुम प्रकृति की काया

?
लिखने को हुई जो कलम तैयार
तुम भी करना जरा सोच विचार
करते हो अगर प्रकृति से प्यार
बातें सुन लो तुम मेरी चार
जल की महिमा है अनन्त अपार
व्यर्थ गंवा न कर अत्याचार
पुश्तों को दे बूंदों की बौछार
अगर करे तू जो सोच विचार
कार पूल से बचा हवा की गंदगी
पानी प्यासे को पिला कर बचा लाखों जिंदगी
लगा पेड़ हजारों में
चमकेगा नाम तेरा सितारों में
छत पर पिला पंछियों को पानी
सही से काम आये तेरी जिंदगानी
दे दो प्रकृति को जीवन का किराया
बचा सको तो बचा लो प्रकृति की काया

3 Comments · 260 Views
You may also like:
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पिता का दर्द
Nitu Sah
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
Loading...