Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 13, 2022 · 1 min read

बचपन

छोटे-छोटे खुशियों में
खुशियाँ ढुँढ कर खुश रहे,
और उसी में झूमता रहे,
बचपन इसी का नाम है।

न किसी बात की चिन्ता
न किसी बात का फिक्र,
न ज्यादा की इच्छा,
न कम का कोई मलाल ।
जो मिल गया उसी मे
है सारा जहान।

खेल-खेल में ख्वाब बुनना,
उन्ही परिस्थितियों
के अनुसार ढालना,
और खुश रहना
यही तो है बचपन।

जो मिल जाए
उसका पूरा सम्मान।
जो नही मिला
उसके लिए न
है कोई अपमान।

जो है उसी मे
हो लेते है खुश,
और जुगार लगाकर,
पुरा कर लेते है
उसी मे अपनी इच्छा।

चार दोस्त क्या मिल गए,
हो जाता उनका मौज।
उनके साथ खेलकर ही
हो जाते है सब खुश।

सारे गम, तकलीफ वें
मिनटों मे जाते है भूल ।
इसीलिए तो हम बार-बार
बचपन को जीना चाहते है।

~ अनामिका

4 Likes · 98 Views
You may also like:
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️मेरे हाथों में सिर्फ लकीऱे है✍️
"अशांत" शेखर
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
वक़्त
Mahendra Rai
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
पानी का दर्द
Anamika Singh
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H. Amin
Loading...