Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

बचपन

mobile के बीच मे ना जाने कहा खो गया मेरा बचपन..
वो लुकाछिपी का खेल मुझे याद आता है..
वो चौक मे खाया भेल भी बहुत याद आता है…
जिंदगी की भाग दौर मे ना जाने आज, कहा खो गया मेरा बचपन…
वो बचपन की चोरिया, आज भी याद aati है
दोस्तों की कमी, आज बहुत सताती है..
किताबों के बीच मे भी ना जाने आज कहा खो गया मेरा बचपन…
कलको चाहे मेरी उम्र भी हो जाये पचपन..फ़िरभी याद आएगा हमेसा मेरा बचपन..

1 Like · 138 Views
You may also like:
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
** The Highway road **
Buddha Prakash
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr.Alpa Amin
✍️कधी कधी✍️
'अशांत' शेखर
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
पिता की पीड़ा पर गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
ज़िंदगी आईने के जैसी है
Dr fauzia Naseem shad
क्या नाम दे ?
Taj Mohammad
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
✍️कोरोना✍️
'अशांत' शेखर
जब पिया घर नही आए
Ram Krishan Rastogi
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
राफेल विमान
jaswant Lakhara
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
" IDENTITY "
DrLakshman Jha Parimal
सुंदर बाग़
DESH RAJ
वो राधा से फिर न मिला ।
शक्ति राव मणि
✍️अपना ही सवाल✍️
'अशांत' शेखर
अहसान मानता हूं।
Taj Mohammad
Loading...