Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 2 min read

बचपन की यादों को यारो मत भुलना

शाम होते ही छतो पर चढ़ जाना,
छतो पर चढ़कर पानी छिड़काना,
पानी छिड़का कर गद्दे बिछाना,
गद्दे बिछाकर उसपर चादर बिछाना।
बचपन की यादों यारो मत भुलाना।।

आधी रात को बरसात का आ जाना,
गद्दे चादर उठाकर नीचे भाग जाना,
भाग कर फिर से मुंह ढक कर सो जाना,
मम्मी ने सुबह डंडे मारकर जगाना।
बचपन की यादों को यारो मत भूलाना।।

सुबह होते ही खेतो पर चले जाना,
खेतो पर जाकर वहां रहट चलाना,
रहट चलाकर वहां नंगे नहाना,
नहाकर फिर ढेर सारे गन्ने खाना।
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

किराए की साइकिल लाकर उसको चलाना,
गद्दी पर न पैर आए उसकी कैची चलाना,
एक घंटे की जगह सवा घंटे चलाना,
पैसे देने के नाम पर करते थे बहाना।
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

फटे टायरो को गलियों में चलाना,
साईकिल के रिमो को डंडे से भगाना,
डंडा टूट जाए तो कीलो से जुड़वाना,
जुड़वा कर फिर से पहिया चलाना।
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

आंख मिचौली में किसी के घर छिप जाना,
छिपकर भी दोस्तो को आवाजे लगाना,
पकड़े गए तो रोकर घर भाग जाना,
आ जाते थे घर दोस्त, फिर उनका मनाना।
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

कोड़ा जमाई खेल में आंखे दिखाना,
खोखों के खेल में किसी के पीछे छुप जाना,
कबड्डी के खेल में अपनी टीम को बनाना,
कबड्डी कबड्डी कहकर दूसरे के पाले में जाना।
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

खेल के मैदान में खुरपे से गुच्ची बनाना,
लकड़ी देकर बढ़ई से गुल्ली डंडा बनवाना,
फिर यार दोस्तो को उनके घरों से बुलवाना,
बुलवाकर फिर गुल्ली डंडे की दो टीम बनाना।
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 530 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
दौर-ए-सफर
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
One day you will leave me alone.
One day you will leave me alone.
Sakshi Tripathi
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे महसूस हो जाते
मुझे महसूस हो जाते
Dr fauzia Naseem shad
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
*साठ साल के हुए बेचारे पतिदेव (हास्य व्यंग्य)*
*साठ साल के हुए बेचारे पतिदेव (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
प्रेमदास वसु सुरेखा
बरवै छंद
बरवै छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माई री [भाग२]
माई री [भाग२]
Anamika Singh
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
2351.पूर्णिका
2351.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Rap song 【5】
Rap song 【5】
Nishant prakhar
#क़तआ_मुक्तक
#क़तआ_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।
इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।
Taj Mohammad
मुखौटा
मुखौटा
संदीप सागर (चिराग)
बरगद का पेड़
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
कवि दीपक बवेजा
🚩उन बिन, अँखियों से टपका जल।
🚩उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
क्या करे कोई?
क्या करे कोई?
Shekhar Chandra Mitra
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बलिदान
बलिदान
Shyam Sundar Subramanian
✍️संस्कारो से सादगी तक
✍️संस्कारो से सादगी तक
'अशांत' शेखर
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...