Oct 6, 2016 · 1 min read

बंधु जानिये मर्म…दोहे

अतिशय धन की लालसा, बनी कोढ़ में खाज.
भौतिकता में बह रहा, ‘हिन्दू’ राज समाज..

धर्ममार्ग या पंथ की. पल में हो पहचान.
धर्म उसे ही जानिये, जिसमें हो विज्ञान..

बहकावे को त्यागकर, बंधु जानिये मर्म.
शेष सभी हैं पंथ ही, मात्र ‘सनातन धर्म’..

वैमानिक विज्ञान में, अन्तरिक्ष के अश्व.
अभियंत्रण प्राचीनतम, पढ़ें ‘यन्त्रसर्वस्व’..

प्राणतत्त्व ब्रह्माण्ड का, जीवनदर्शन सार.
राम नाम ही सत्य है, यही जगत आधार..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

381 Views
You may also like:
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
तुम मेरी हो...
Sapna K S
अभिलाषा
Anamika Singh
लाल टोपी
मनोज कर्ण
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बुआ आई
राजेश 'ललित'
Loading...