Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 1 min read

बंदर मामा गए ससुराल

बंदर मामा पहन पजामा, पहुंच गए ससुराल
हाथ में एक मोटी सी सोटी,गले में था रूमाल
बोला अकड़ पकड़ कर चोटी,था गुस्से से लाल
लेने आया हूं,छोड़ दे नखरे,चल मोटी अपनी ससुराल
सुन बंदरिया को गुस्सा आया…
खींच कर पत्थर से मार गिराया…
काला तू, तेरा दिल भी काला, तेरे संग जाऊं ना बंदर
रूठी बंदरिया,छोड़ कर खाना,जा बैठी खोल के अंदर
बंदर मामा फिर गए मनाने, यत्न किए हजार
बोला,चाहे चपत लगा ले, पर पत्थर ना मार
चश्मा लगा के बंदर इतराए,फिर बंदरिया को समझाए
ये तो हैं मियांबीबी की बात, जगहंसाई क्यों करवाएं
रूठी बंदरिया को मनाया,बंदर लाल चुनरिया लाए
चुनरी ओढ़ के बंदरिया मुसकाए,ठुमक ठुमक ससुराल को जाए।

1 Like · 201 Views
You may also like:
कब मेरी सुधी लोगे रघुराई
Anamika Singh
हमारी धरती
Anamika Singh
दुश्मन बना देता है।
Taj Mohammad
✍️सुर गातो...!✍️
'अशांत' शेखर
ज़िद
Harshvardhan "आवारा"
**कर्मसमर्पणम्**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
✍️सुकून✍️
'अशांत' शेखर
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️आव्हान✍️
'अशांत' शेखर
माटी - गीत
Shiva Awasthi
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
हासिल ना हुआ।
Taj Mohammad
दूर रहकर तुमसे जिंदगी सजा सी लगती है
Ram Krishan Rastogi
आया है प्यारा सावन
Dr Archana Gupta
आँखों में पूरा समंदर छिपाये बैठे है,
डी. के. निवातिया
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
वो पहलू में आयें तभी बात होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
Loading...