Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2021 · 1 min read

बंदर भैया

बंदर भैया बड़े सयाने,
आ जाते हो हमें सताने,

पलटन अपनी साथ में लाते,
घर में घुस खाना चट कर जाते,

डंडा लेकर तुम्हें भगाती,
फिर भी तुम मुझे डराते,

पलटन तेरी उधम करती,
इधर-उधर लटक कर्तव्य दिखाते,

मौका पाते कपड़े ले जाते,
दीन-दुःखी का क्रोध बढ़ाते,

बंदर भैया यहांँ से जल्दी जाओ,
अच्छे बच्चों को अब न सताओ ।

# बुद्ध प्रकाश; मौदहा ।

7 Likes · 4 Comments · 751 Views
You may also like:
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
घंटा बजा
Shekhar Chandra Mitra
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"अटपटा प्रावधान"
पंकज कुमार कर्ण
कोहिनूर
Dr.sima
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे सपने
Anamika Singh
दर्द पन्नों पर उतारा है
Seema 'Tu hai na'
बच्चों जग में नाम कमाना (बाल कविता)
Ravi Prakash
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
दुनियादारी में
surenderpal vaidya
मुस्कुरा के दिखा नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत का फल ।
Nishant prakhar
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
# निनाद .....
Chinta netam " मन "
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
धूप
Saraswati Bajpai
मौसम तो बस बहाना हुआ है
Kaur Surinder
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वक़्त और हमारा वर्तमान
मनोज कर्ण
कवित्त
Varun Singh Gautam
ग़ज़ल
kamal purohit
सच तो यह है
gurudeenverma198
जगत का जंजाल-संसृति
Shivraj Anand
Loading...