Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 5, 2021 · 1 min read

बंदर भैया

बंदर भैया बड़े सयाने,
आ जाते हो हमें सताने,

पलटन अपनी साथ में लाते,
घर में घुस खाना चट कर जाते,

डंडा लेकर तुम्हें भगाती,
फिर भी तुम मुझे डराते,

पलटन तेरी उधम करती,
इधर-उधर लटक कर्तव्य दिखाते,

मौका पाते कपड़े ले जाते,
दीन-दुःखी का क्रोध बढ़ाते,

बंदर भैया यहांँ से जल्दी जाओ,
अच्छे बच्चों को अब न सताओ ।

# बुद्ध प्रकाश; मौदहा ।

7 Likes · 4 Comments · 447 Views
You may also like:
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
समय के संग परिवर्तन
AMRESH KUMAR VERMA
तुमने वफा न निभाया
Anamika Singh
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
भगवान सा इंसान को दिल में सजा के देख।
सत्य कुमार प्रेमी
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
योगा
Utsav Kumar Aarya
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
साहब
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
हमनें नज़रें अदब से झुका ली।
Taj Mohammad
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
अधुरा सपना
Anamika Singh
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
जो देखें उसमें
Dr.sima
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
*विश्वरूप दिखलाओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...